अपराध एवं शास्तियां

  • शराबी व्यवहार, जान बूझकर सम्पत्ति को हानि पहुंचाना, अभद्रता, आक्रामक (आपत्तिजनक) और अभद्र भाद्गा का इस्तेमाल करना दण्डनीय अपराध है जो रू० ५००/-तक हो सकता है।
  • मेट्रो रेलमें खतरानाक और आपत्ति जनक सामग्री ले जाना दण्डनीय अपराध है जिसके लिये चार साल तक जेल और रू० ५०००/-का जुर्माना हो सकता है।
  • मेट्रो परिसर या मैट्रो रेल के अन्दर सक्षम प्राधिकारी की अनुमति के बिना विज्ञापन/पोस्टर इत्यादि लगाना या नुकसान पहुचाना दण्डनीय अपराध है जिसके लिये ०६ महीने की कैद तथा/अथवा रू० १०००/-तक का जुर्माना हो सकता है।
  • रेल की छत पर यात्रा करने अथवा रेल के किसी अन्य भाग में यात्रा करने (जिसकी अनुमति यात्रियों को ना दी गई हो) पर रू० ५०/-का अर्थ दण्ड या एक महीने की कैद या दोनों हो सकते हैं।
  • समक्ष प्राधिकारी की अनुमति के बिना मेट्रो की पट्‌रियों पर चलने पर ०६ महीने की कैद अथवा रू० ५००/-का अर्थ दण्ड या दोनों हो सकते हैं।
  • जान बूझकर किसी मेट्रो कर्मी के कर्तव्य निवर्हन में बाधा पहुचाने पर आपको एक वर्ष तक कैद या रू० १०००/-अर्थ दण्ड अथवा दोनों हो सकते हैं।
  • आधिकारिक संचार उपकरणों का अनुचित प्रयोग दण्डनीय अपराध है। ऐसा करने पर एक वर्ष की कैद अथवा रू० १०००/-का अर्थ दण्ड अथवा दोनों हो सकते हैं।
  • मेट्रो बोर्ड या दस्तावेजों को हानि पहुंचाना दण्डनीय अपराध है। ऐसा करने पर ०२ महीने की कैद या रू० २५०/-का जुर्माना भरना होगा।
  • अनाधिकृत रूप से टिकट की बिक्री करने पर ०३ महीने की कैद तथा/अथवा रू० ५००/- के दण्ड का प्राविधान है।
  • यदि कोई भी व्यक्ति मेट्रो के किसी भाग को क्षति पहुंचाने के आश्रय से कोई वस्तु को फेंकता है तो उसे १० वर्ष की कठोर कारावास/आजीवन कारावास की सजा होगी।
  • किसी भी सम्पत्ति को क्षति पहुंचाने या आगल गाने या विस्फोट करने की दशामें १० वर्ष तक कारावास हो सकती है।
  • किसी भी उपकरण के साथ छेडछाड करना और यात्रियों या रेल की सुरक्षा को खतरे में डालना दण्डनीय अपराध है जिसके लिये ७ वर्ष तक कैद हो सकती है।
  • मेट्रो रेलवे परिसर में कोई भी अनाधिकृत सामग्री की बिक्री करना दण्डनीय अपराध है जिसके लिये रू० ५००/-का जुर्माना या ०६ माह की कैद हो सकती है।
  • बिना टिकट यात्रा करना दण्डनीय अपराध है जिसके रू० ५०/-का जुर्माना हो सकता है।
Back to top